03
AUG
2017

The Development of Discourse in the Quran

"[All] praise is [due] to Allah, who has sent down upon His Servant the Book and has not made therein any deviance.” [Quran 18:1] The Quran is the speech of Allah. It was revealed unto Muhammad (peace be upon him) in the Arabic language. It is the Arabic language spoken by
Continue Reading →
20
JUL
2017

पवित्र कुरआन का एक अनोखा अनुवाद 

सहरी से पहले क़ुरआन मजीद खोला। सूराह अल् बक़रा सामने थी। संसार का परवरदिगार यहूदियों और ईसाइयों पर प्रमाण स्थापित (हुज्जत कायम) कर रहा है। इसी के साथ ही इब्राहीम की नस्ल की दूसरी शाख़ा यानी बनी-इस्माईल (इस्माइल की औलाद) में से एक “मुसलमान-उम्मत” की नींव र
Continue Reading →
20
JUL
2017

क़ुरआन की विषय-वस्तु   

लेखक: जावेद अहमद ग़ामदी अनुवाद: आकिब खान क़ुरआन के बारे में यह बात उस का एक आम पढ़ने वाला भी बहुत आसानी के साथ जान सकता है कि उसकी विषय-वस्तु (मोज़ू) सिर्फ़ वह  हक़ीक़तें हैं जिनको मानने और जिनसे पैदा होने वाले तक़ाज़ों को पूरा करने पर इंसान की हमेशा की कामयाबी का दारोमदार है। क़ुरआन इन्ह
Continue Reading →
25
MAR
2017

हलाला

यह कहा जा सकता है कि हलाला[1] की अवधारणा (तसव्वुर) इस्लामी न्यायशास्त्र (फ़िक्हा) का सबसे शर्मनाक मुद्दा है। शरीअत के अनुसार, अगर पति अपनी पत्नी को तीसरी बार तलाक़ दे देता है तो वह दोनों फिर से शादी नहीं कर सकते सिवाय इसके कि पत्नी किसी और से शादी कर ले और वहां से भी उसे तलाक़
Continue Reading →
25
MAR
2017

Principles to Discern the Coherence(Nazm) in Quran

Author: Amin Ahsan Islahi To describe the principles of how to discern nazm is more important than to enumerate the arguments in order to substantiate its existence in the Holy Qur’ān. A person does not feel compelled to deny nazm in the Holy Qur’ān because he does not app
Continue Reading →
25
FEB
2017

यतीम पोते की विरासत

लेखक: जावेद अहमद ग़ामिदी  अनुवाद: मुहम्मद असजद पोते की विरासत में दादा और दादा की विरासत में पोते का कोई हिस्सा साफ तौर पर तो कुरआन में बयान नहीं हुआ, लेकिन أولاد (औलाद) और آبا (आबा) के शब्दों में लुग़त (शब्दकोश) और उर्फ़ (इस्तेमाल), दोनों के एतबार से दादा और पोता भी शामिल हो जाते ह
Continue Reading →
08
FEB
2017

Downfall of the Muslims

Muslims remained a great power in this world for almost a thousand years. No nation was able to compete with them with regard to knowledge and wisdom, political acumen and affluence. They reigned over the whole world during this period. This kingdom was given to them by God and it was
Continue Reading →
07
FEB
2017

Is Democracy Compatible with Islam?

There are some major misconceptions about this issue. Muslim societies had monarchs ruling them for a very long period, stretching about a thousand years. Therefore, their system of government was based on monarchy. Excluding the period of the Rightly Guided Caliphs which consisted of
Continue Reading →